महादेवी वर्मा जीवन परिचय | Mahadevi Verma Biography in Hindi

By | August 19, 2019

आज हम एक महान कावेत्री है जिन का नाम महादेवी वर्मा (Mahadevi Verma) और जन्म 26 मार्च 1907 उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में एक इसे परिवार में लगभग 200 वर्षों के बाद पहली बार पुत्री का जन्म हुआ.

Mahadevi Verma Biography in Hindi

उनके पिता श्री गोविंद प्रसाद वर्मा भागलपुर में कॉलेज टीचर थे. उनकी माता का नाम हेम रानी देवी था उनकी माता बहुत धार्मिक कर्म निष्ठ और भावुक महिला थी.

उनकी माता हिंदी की विदुषी भी थी तुलसी सूर और मीरा की रचनाओं का परिचय सर्वप्रथम महादेवी जी को अपनी माता से ही प्राप्त हुआ था.

उनकी माता प्रतिदिन कई घंटे पूजा पाठ तथा रामायण गीता एवं विनय पत्रिका का पाठ करती रहती थी महादेवी जी ने सन 1933 में संस्कृत में m.a. की परीक्षा पास की थी.

और उसी वर्ष प्रयाग महिला विद्यापीठ की प्रिंसिपल नियुक्त हो गई महादेवी मात्र 7 वर्ष से ही कविता लिखने लगी थी.

Mahadevi Verma Wikipedia in Hindi

तब उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की एक सफल कवि के रूप में प्रस्तुत हो चुकी थी साल 1916 में Mahadevi Verma का विवाह बरेली के पास नवाबगंज के निवासी स्वरूप नारायण वर्मा से कर दिया गया.

उस समय स्वरूप नारायण वर्मा दसवीं कक्षा के विद्यार्थी थे. श्रीमती महादेवी वर्मा को विवाहित जीवन व्र्क्ती थी. Mahadevi Verma महादेवी वर्माजी का जीवन तो एक सन्यासी का जीवन था उन्होंने जीवन भर सफेद रंग के कपडे पहने और कभी सीसा नहीं देखा.

1966 पति की मृत्यु के बाद स्थाई रूप से इलाहाबाद में रहने लगी. इलाहाबाद में महादेव जी सुभद्रा जी से मिली. कॉलेज में सुभद्रा कुमारी चौहान के साथ उनकी मित्रता हो गई सुभद्रा चौहान महादेव जी का हाथ पकड़कर सखियों के बीच में ले जाती और कहती हो यह कविता भी लिखती है.

महादेवी वर्मा का निधन 11 सितंबर सन 1987 में इलाहाबाद में हुआ. महादेवी वर्मा की रचनाओं के विषय में महादेवी वर्मा ने अपनी प्रारंभिक कविताएं ब्रज भाषा में लिखी.

मैथिलीशरण गुप्त की खड़ी बोली की कविताओं से प्रभावित होकर महादेवी जी ने भी खड़ी बोली को ही अपनी कविताओं का माध्यम बनाया.

Information About Mahadevi Verma in Hindi, Information on mahadevi verma in hindi

mahadevi verma biography in hindi

नाममहादेवी वर्मा
जन्म26 मार्च 1907 उत्तर प्रदेश, फर्रुखाबाद
पिताश्री गोविंद प्रसाद वर्मा
माताहेम रानी देवी
उपाधिकावेत्री
पतिस्वरूप नारायण वर्मा
निधन11 सितंबर सन 1987

महादेवी वर्मा जी का बाल साहित्य में योगदान

Mahadevi Verma की बाल कविताओं के दो संकलन

पहला संकलन ठाकुर जी भोले हैं
दूसरा संकलन है आज खरीदेंगे हम ज्वाला

महादेवी वर्मा जी का गद्य साहित्य

संस्मरण – मेरा परिवार (1972), पथ के साथी (1956)
निबंध – संकल्पिता (1969), श्रंखला की कड़ियाँ (1942)
रेखाचित्र – अतीत के चलचित्र (1941) और  स्मृति की रेखाएं (1943)
ललित निबंध – क्षणदा (1956)
प्रसिद्ध कहानियाँ – गिल्लू
संस्मरण, रेखाचित्र और निबंधों का संग्रह – हिमालय (1963)

महान कवियित्री महादेवी वर्मा जी का कविता संग्रह

दीपशिखा (1942)
नीहार (1930)
प्रथम आयाम (1974)
अग्निरेखा (1990)
नीरजा (1934)
रश्मि (1931)
सांध्यगीत (1936)
सप्तपर्णा (अनूदित-1959)

महादेवी वर्मा को दिए गए पुरस्कार और सम्मान

1988 में पदम विभूषण
1982 में ज्ञानपीठ पुरस्कार
1956 में हिन्दी साहित्य की महान लेखिका महादेवी वर्मा जी को पद्म भूषण समान दिया गया
1979 में अकादेमी फेल्लोशिप से नवाजा गया, जिसके चलते वे साहित्य अकादमी की फेलो बनने वाली पहली महिला भी बनीं।

आशा करते है आपको ये महादेवी वर्मा जीवन परिचय (Mahadevi Verma Biography in Hindiपसंद आया है एसे ही जीवन परिचय पढने के लिए हमारे साथ बने रहिये गा और दोस्तों के साथ शेयर भी जरुर से करिए गा आज के लिए इतना ही धन्यवाद!

Read Also : –

Summary
Review Date
Reviewed Item
Really Good Article
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *