आरती गुप्ता सहा जीवन परिचय | Arati Saha Biography in Hindi Language

आरती गुप्ता सहा जीवनी जी दोस्तों आज हम आप लोगों के लिए आरती गुप्ता साहा की जीवनी लेकर आए हैं जो कि एक तेराकी है और साथ में भारत की पहली महिला खिलाड़ी भी है आरती गुप्ता साहा ने वर्ष 1959 इंग्लिश चैनल पार करने वाली एक एशिया की प्रथम महिला है.

आरती गुप्ता सहा की जन्म तारीख, स्थान और प्रारंभिक जीवन  Date of Birth Place | arati saha biography in hindi language

आरती गुप्ता का जन्म 24 सितंबर 1940 को कोलकाता पश्चिम बंगाल है हुआ उनका पूरा नाम आरती गुप्ता सहा है उनके पिताजी का नाम पंचगोपाल साह और उनकी दो बहने है.

उनके पति का नाम डॉ अरुण कुमार और उनकी एक बेटी है जिसका नाम अर्चना है और उन्हें भारत सरकार द्वारा पदमश्री का अवॉर्ड भी मिला.

तो फिर चलिए अब विस्तार से जानते है आरती गुप्ता सहा जीवन के बारे में.

arati saha biography in hindi language

Arati saha information in hindi

Nameआरती गुप्ता साहा
Date of Birth24 सितम्बर 1940
Death23 अगस्त 1994
Place of Birthकलकत्ता पश्चिम बंगाल
Father’s Nameपंचगोपाल साहा
भाई बहन2
Husband’s Nameडॉक्टर अरुण कुमार
Children1
Daughter’s Nameअर्चना
Nationalityभारतीय
सम्मानपदमश्री
प्रेरणा स्त्रोतमिहिर सेन

Aarti Saha Education and Marriage

इंग्लिश चैनल पार करने के बाद उन्होंने इंटरमीडिएट की पढ़ाई की यह पढ़ाई आरती सहा जी ने सिटी कॉलेज से की. इंग्लिश चैनल पार कर देने के बाद उन्होंने मैनेजर डॉक्टर अरुण गुप्ता से पहले कोर्ट मैरिज की और बाद में उन्होंने अरेंज मैरिज की.

आपको बता दें डॉक्टर अरुण गुप्ता ने इंग्लिश चैनल को पार करने में आरती साहा की बहुत ही सहायता की थी. और इंग्लिश चैनल पार करने के लिए जब आरती सहा इंग्लैंड गई थी तो साथ में मैनेजर डॉक्टर अरुण गुप्ता भी उनके साथ गए थे. और इन दोनों की एक संतान भी है जिसका नाम अर्चना है यह नागपुर रेलवे में कार्यरत है.

Aarti Gupta Saha Career and Awards | arati saha wikipedia in hindi

आरती साहा गुप्ता को बचपन से ही तेरने का बहुत ही शौक था इसी के चलते मात्र 4 year से लेकर 24 year के बीच में बहुत से राज्य स्तरीय इसी के साथ अन्य तेराकी प्रतियोगिताओं में उन्होंने भाग लिया.

जिसमें से साल 1945  से लेकर 1951 के बीच में 22 राज्य तेराकी प्रतियोगिता उन्होंने जीती आपको बता दें यह मुख्य 200 मीटर ब्रेस्ट स्ट्रोक, 100 मीटर फ्री स्टाइल, 100 मीटर ब्रेस्ट स्ट्रोक ही थी.

Death of Aarti Gupta Saha

पीलिया की बीमारी के इलाज के लिए उन्हें कलकाता के एक निजी हस्पताल में उन्हें दाखिल किया गया और 19 दिन संघर्ष के बाद उनकी 23 अगस्त 1994 को मिर्तु हो गई आरती सहा ने ये उप्लब्दी मात्र 54 साल की उम्र में हासिल की थी.

आशा करते हैं आपको यह आरती साहा की बायोग्राफी पसंद आई है और इससे आपके जीवन में कुछ अच्छा करने की प्रेरणा मिली होगी अगर आप ऐसे ही प्रेरणादायक बायोग्राफी पढ़ना पसंद करते हैं तो हमारे साथ बने रहिएगा क्योंकि हम आपके लिए ऐसे ही बायोग्राफी लेकर आते रहते हैं धन्यवाद.

इन्हें भी पढ़े : –

[kkstarratings]

Summary
Review Date
Reviewed Item
Nice Article
Author Rating
51star1star1star1star1star
हेल्लो दोस्तों मेरा नाम प्रवीन कुमार है और में Biography Best ब्लॉग का owner हू मुझे बायोग्राफी लिखने का बहुत सोक है इसी लिए मेने ये ब्लॉग बनाया है आपको जरुर से पसंद आये गा धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here